Sunday, August 23, 2009

internet par meree pahalee rachana

aaj sabhee purane kagazon par nazar dalee tab maien dekha 25/12/2005 ko mails ko chats ko chhoD diya jaaye to net par kaheen ye meree pahalee rachana thee kitnee yaaden judee hian mere sath kitne log judate gaye is ke baad aaj main wahee rachana tahan aap se bant raha hoon aur usee bhoomika ke sath jo sabse pahale likhee thee main mujhe is kavita par 2 tipanniyan mileen wo log aaj bhee mere sath hain jinhoen sab se pahale yahan tipannee dee main wo tipanniyan bhee yahan rakahna chahoonga

Anil masoomshayer (23/08/2009)

kabhee lagata hai mujh main aisa hai hee kya ki khud ko shayer kahoon kavi kahoon? bas main ek zameen hoon shayed kagaz kee aur koyee mujeh main aa ke geeton ke beej bo jata hai kab se likh raha hoon maloom nahee. par meree prerana sahir hain

Anil (25/12/2005)

मैं लाख इंतज़ार करूँ तो क्या
मेरी राह देखेगा कौन
मैं शब ओ सहर रोया तो क्या
मेरी आह देखेगा कौन

आँखें तन्हा आँसू तन्हा
दूर दूर तन्हाई है
गर अपना साथ भी झूठा था
हर रिश्ता ही परछाई है

इतने बरस का साथ रहा
एक रात में छूट गया
हर कसम कहीं बस दफ़्न हुई
हर वादा जैसे टूट गया

पहले ये अहसास हुया होता
मैं तुझ से लिपट के रो लेता
जिन दिनो मैं तू मेरा होता था
मैं सारा माज़ी धो लेता

हुआ था जो भी उस शब को
ख्वाबों में सोचा ना था
मेरे सिवा तुझ पर कल तक
कोई और असर होता ना था

आज मेरे सब रंग गये
रफ़्ता रफ़्ता बेनूर हुया
तू मुझ को चेहरा देता था
तू काहे इतना दूर हुआ

जब हर पल मेरे साथ था तू
मैं तुझ को दुख भी देता था
मेरी सख्ती कम कब होती थी
तेरी आँख में आँसू होता था

जो कुछ भी यहाँ करे कोई
यहीं फ़ैसला होता है
कल तेरी आँख में आँसू था
अब मेरा दिल ये रोता है

अब किस से मैं फरियाद करूँ
गर सज़ा मुझे ये सख़्त लगे
ज़ख़्मों को भरने मैने जाने
कितने जन्मों का वक़्त लगे

हर पल रह देखता हूं मैं अब
हर लम्हा आँसू बहते हैं
ना मैं इन को सुनता हूं अब
ना ये कुछ भी कहते हैं

सब बातें तुझ से होती थीं
अब तू भी मसरूफ़ हुआ
ना लब का कोई लफ्ज़ मिला
दिल मैं भी ना कोई दुआ

अब ऐसे ही जीना होगा
अब ऐसे ही मारना है
हयात है सागर कज़ा किनारा
मुझ को पर उतरना है

पर कैसे यकीं दिलाऊं खुद को
अब सब ऐसे ही करना है
तन्हा ही मुझ को जीना है
तन्हा ही मुझ को मरना है

meena jee

bahar ke kise emulk men rahtee hain ooper wala in kee sehat zaldee theek kare bahut achhee nazmen khatee hain

Meena comments :
Bohut hee piyari nazm likhy aap nai...........
maiN samajhty huN dil sai nikly huyii baat aser rakhty hai....!!!

shairy kai quaad-o-zavaabat apni jagah..........lakin............dil ki baat............shayed in ki bhi muhtaaj nahiN hoty..........!!!

cheers
meena


aap delhi se hain bahut achee shayree kee samjh rakhtee hain kayee dino baad pichale dino aap se baat huyee

Honey comments :
ankhen tanaha ansoo tanha
door door tanhayee hai
gar apana sath bhee jhotha tha
har rishta hee parchayee hai


"bahut hi khoobsurt hai ye tanhai bhi
aap ki yaad aap ka armaan aur aap ki hi parchaain bhi"

dear Anil,

bahut hi khoon surat alfaaz, really great writting.

Regards,

Honey.

1 comment:

Rewa said...

sach hai jo itni khubsoorati say pyar likh sakta hai wohi aisi dard bhari rachna bhi likh sakta hai.....no words