Thursday, August 13, 2009

मासूम तेरी बातें


कटार से बच के और कटार के पीछे
वो छिपा भी तो इक तलवार के पीछे

तस्वीरों के लिए इसमें कीलें ना गाडिए
सहारा लिए खड़ा है कोई दीवार के पीछे

ये फासला हमारा तय कैसे करेंगे दोनो
तू सैंकड़ो में अव्वल मैं हज़ार के पीछे

कोई तेज़ रौ गाड़ी ले के तुझे गयी थी
हम दौड़ते हैं तब से हर कार के पीछे

जिन का शहर में कफ़न का कारोबार है
हसरत लिए खड़े हैं उस बीमार के पीछे

वो सर भी माँग ले तो हंस के उसे दूँगा
लेकिन वो पड़ा है इस दस्तार के पीछे

लिपट के रो रहें हम इस दीवार से
इक तस्वीर तेरी लगी है दीवार के पीछे

मुहब्बत हो गयी उस को ये भूल जा
सौ सौ इनकार खड़े हैं इकरार के पीछे

जो कहा है दिल ने लिखते रहे वही हम
कलम नही चली ये बाज़ार के पीछे

मासूम तेरी बातें जिंदा ताजमहल हैं
आगरा कौन जाये फकत मज़ार के पीछे

3 comments:

DB said...

kya likha ha good suparab

अर्चना गंगवार said...

कटार से बच के और कटार के पीछे
वो छिपा भी तो इक तलवार के पीछे

her lafz mein chupa hai
katar ka hi painapen...

bahut khoob

Jagdish said...

Bahut khoob likha hai aapney MasoomShayar ji.. I liked all your creations posted here.. hope to meet you someday again..